आशीर्वाद : जीवन के हर पल

नीरा ओबेरॉय, जुलाई 2007 English
1995 में स्वीडन में 13 वर्ष रहने के बाद स्वदेश वापस लौटने पर मेरी गुरूजी के यहाँ की यात्रा आरम्भ हुई। उस समय से गुरूजी के हर दर्शन का अवसर आशीष से परिपूर्ण है, एक यादगार घटना। जब मैंने गुरूजी के यहाँ जाना आरम्भ किया, मैं शांति और स्थिरता की खोज में थी। मैंने सुना था कि गुरूजी ने कैंसर, ह्रदय रोगियों और अन्य असाध्य रोगों से अपने भक्तों को मुक्त किया हुआ था। एक अवसर पर मेरे साथ एक अनोखी घटना हुई।

बचपन से मुझे विसर्प रोग रहा है। कोई औषधि सफल नहीं हुई थी। हर बार जब वह होता था, मुझे चिकित्सक कॉर्टिजोन दिया करते थे। मेरे हाथ खुरदुरे हो गये थे। एक बार गुरूजी की संगत में बैठे हुए मैं सोच रही थी कि मेरे हाथ तो इतने कर्कश हैं, यदि गुरूजी ने कभी मुझे अपने चरण कमल दबाने को कहा तो मैं क्या करूँगी। कुछ सप्ताह में मुझे आभास हुआ कि मेरा शरीर और मेरे हाथ साफ हो गये हैं और शीघ्र ही मेरा उपचार हो चुका था। फिर एक दिन गुरूजी ने मेरे बड़े भाई, जो कश्मीर में सेना में सेवारत हैं, उनको आने को कहा। मेरे भाई गुरूजी को कभी नहीं मिले थे। अगली बार जब वह दिल्ली आये, गुरूजी ने उन्हें आशीर्वाद दिया। उसी महीने वह वापस कश्मीर चले गये और उनकी बाँह में एक आतंकवादी की गोली लगी। गुरु कृपा से वह बच गये थे।

एक बार गुरूजी ने मुझे अपना एक चित्र देकर उसे शयन कक्ष में रखने के लिए कहा। बचपन से मेरे कमरे में शिव का चित्र रहा है। आज भी मेरे जीवन में कोई समस्या, शंका या सुख के अवसर आते हैं, मैं सदा उन्हें गुरूजी के साथ बाँटती हूँ और गुरूजी ने सदा मुझे उत्तर दिये हैं। जब मैं दिल्ली से बाहर होती हूँ तो उनकी कमी का आभास होता है। गुरूजी ने मुझे स्वप्न में भी दर्शन दिये हैं।

आज मुझे गुरूजी में इतनी आस्था है कि मेरे आसपास की सब वस्तुएँ उनकी याद दिलाती हैं। गुरूजी ने मुझे और मेरे परिवार को आशीष दिया है। मेरे दोनों बेटे, जिन्हें गुरूजी ने आशीर्वाद देकर अमरीका भेजा है, उनके भक्त हैं। उन पर केवल आस्था बनाये रखने से हमें सदा, हर पल उनकी कृपा प्राप्त होती रहती है। मेरे लिए गुरूजी परमेश्वर हैं जिन्होंने मुझे मेरी योग्यता और आवश्यकता से अधिक दिया है। गुरूजी, इस दया के लिए हम आपके अत्यंत आभारी हैं।

नीरा ओबेरॉय, दिल्ली

जुलाई 2007